GST No. 07AAECN7759E1Z7
+91-11-23461600
info[at]nhidcl[dot]com
राष्ट्रीय राजमार्ग एवं अवसंरचना विकास निगम लिमिटेड
सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय, भारत सरकार
 

श्री मनसुख लक्ष्मणभाई मांडविया

Sh. Mansukh Laxmanbhai Mandaviya
श्री मनसुख लक्ष्मणभाई मांडविया

एम.ए. (राजनीति विज्ञान)

सड़क परिवहन, एवं राजमार्ग, पोत-परिवहन
तथा रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री

श्री मनसुख एल. मांडविया – भारत सरकार में सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, पोत-परिवहन तथा रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री हैं- वे उन गिने चुने राजनीतिज्ञों में से एक हैं जो विद्वान होने के साथ साथ जनता में लोकप्रिय भी हैं । उन्होंने भावनगर विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में परास्नातक की डिग्री प्राप्त की है । नब्बे के दशक के मध्य में अपना राजनीतिक जीवन प्रारम्भ करने के बाद बहुत कम समय में ही वे आम लोगों के एक सम्मानित राजनेता बन गए ।

श्री मांडविया का जन्म गुजरात राज्य में भावनगर जिले के पालिताना तालुका में हनोल नामक एक छोटे से गांव में हुआ था । मध्यवर्गीय किसान परिवार में जन्मे वह चार भाइयों में सबसे छोटे हैं ।

श्री मांडविया ने अपने राजनीतिक दल और पलिताना (गुजरात) की जनता के निर्वाचित प्रतिनिधि, दोनों के रूप में विविध नेतृत्वकारी भूमिकाएं निभाई हैं । वह अपनी युवावस्था से ही राजनीतिक रूप से सक्रिय थे और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सदस्य बन गए थे । उनको अ.भा.वि.प. की गुजरात इकाई की राज्य कार्यकारी समिति के सदस्य के रूप में चुना गया । उनकी संगठन योग्यता को पार्टी में वरिष्ठ नेताओं द्वारा पहचाना गया और उन्हें पलिताना में युवा मोर्चे की तथा बाद में पलिताना भाजपा इकाई के अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी गई । उन्हें वर्ष 2002 में 28 वर्ष की आयु में गुजरात के सबसे युवा विधानसभा सदस्य बनने का गौरव प्राप्त है । यह चुनाव उन्होंने पलिताना निर्वाचन क्षेत्र से लड़ा था ।

वर्ष 2005 में विधानसभा सदस्य के रूप में उन्होंने लड़कियों की शिक्षा के उद्देश्य से पलिताना के 45 शैक्षिक रूप से पिछड़े गांवों के लिए 123 किमी. लम्बी पदयात्रा का आयोजन किया था । पुन: वर्ष 2007 में उन्होंने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और व्यसन हटाओ ध्येय हेतु 52 गांवों के लिए 127 किमी. लम्बी पदयात्रा का आयोजन किया ।

अपने कार्यकाल के बाद, 2010 में वह गुजरात कृषि उद्योग निगम लिमिटेड के अध्यक्ष बने ।

बहुत ही कम समय में, 38 वर्ष की आयु में 2012 में वह गुजरात राज्य से राज्य सभा में निर्वाचित हुए । राज्य सभा में अपने कार्यकाल के दौरान विपक्ष के रूप में उन्होंने गुजरात से संबंधित अनेक महत्वपूर्ण प्रश्न उठाए । उन्होंने देश के युवाओं और अनुसंधानकर्ताओं के लिए एकस्व (पेटेंट) के संबंध में बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न उठाए । वह कई वर्षों तक संसद की विभिन्न महत्वपूर्ण स्थाई समितियों य़था पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, रसायन और उर्वरक तथा उद्योग का हिस्सा रहे हैं । वह पर्यावरण, वन एवं मौसम परिवर्तन, वस्त्र संबंधी सलाहकार समिति और रियल एस्टेट विधेयक-2015 संबंधी चयन समिति में भी सदस्य थे । वह भारतीय खाद्य निगम की गुजरात राज्य सलाहकार समिति के भी अध्यक्ष रह चुके हैं ।

उनकी संगठन संबंधी योग्यता पार्टी के लिए बहुत महत्वपूर्ण थी और वह 2013 में भाजपा की राज्य इकाई के सचिव और 2014 में महासचिव बने थे ।

2014 के अंत में वह गुजरात राज्य में भाजपा के उच्च तकनीकी (हाई टेक) एवं व्यापक सदस्यता अभियान के प्रभारी बने । उनके चिन्तन, विचारों और उत्कृष्ट संगठन योग्यता के कारण गुजरात में 1 करोड़ से भी अधिक लोगों ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है ।

श्री मांडविया एक अनुभवी जन प्रतिनिधि हैं और उनकी राजनीतिक कुशाग्रता और योग्यता को कई मंचों पर मान्यता प्रदान गई है । संयुक्त राष्ट्र में “स्थायी विकास के लिए 2030 का कार्यक्रम” विषय पर दिए गए उनके भाषण की योग्यता को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर अधिकारिक रूप से प्रशंसा प्राप्त हुई ।

श्री मांडविया तीन देशों घाना, नामिबिया और कोत दिव्वार (Cote d’lvoire) की यात्रा के लिए राष्ट्रपति के शिष्टमंडल का हिस्सा थे ।

श्री मांडविया वित्तीय मामलों सहित अनेक विषयों पर अपने बौद्धिक विश्लेषण और वैचारिक नेतृत्व के लिए विख्यात हैं । प्रत्येक वर्ष वार्षिक राष्ट्रीय बजट पर उनके विश्लेषण की उत्सुकता के साथ प्रतीक्षा की जाती है । गरीबों और अमीरों के बीच के आर्थिक अंतर को दूर किए जाने के तरीकों पर उनके चिंतन और विचारों की विशेषज्ञों द्वारा सराहना की गई है ।

श्री मांडविया ने बहुत अच्छे शिक्षार्थी के रूप में अनेक देशों की यात्राएं की है । उन्होंने उद्योगों के विकास संबंधी अध्य़यन के लिए चीन, कृषि संबंधी नई प्रौद्योगिकी के अध्य़यन के लिए इजराइल, शहरी विकास और प्रौद्योगिकी की सुविधा के अध्ययन के लिए इंग्लैंड और जर्मनी सहित यूरोप तथा भोजन उत्सव और मुक्त व्यापार प्रणाली के लिए दुबई की यात्रा की है । वे वन जीवन और संस्कृति के अध्ययन के लिए पूर्वी अफ्रीकी देशों कीनिया, युगांडा, तंजानिया और रवांडा की भी यात्रा कर चुके हैं ।

5 जुलाई, 2016 को उन्होंने भारत सरकार में सड़क परिवहन और राजमार्ग, पोत-परिवहन और रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री के रूप में शपथ ली ।
मंत्री बनने के बाद श्री मांडविया दक्षिण अफ्रीकी देशों – अल्जीरिया और हंगरी के लिए उप राष्ट्रपति के शिष्टमंडल के सदस्य थे ।

शैक्षणिक योग्यता

• राजनीति विज्ञान में परास्नातक

व्यक्तिगत विवरण

• जन्म तिथि: 01/06/1972
• कार्यालय: 201, परिवहन भवन, नई दिल्ली
• वेबसाइट: http://www.mansukhmandaviya.in/
• Facebook: http://www.facebook.com/mansukhmandviya
• Twitter : http://twitter.com/mansukhmandviya

जन प्रतिनिधित्व

• सदस्य, गुजरात विधान सभा – 2002 से 2007
• अध्यक्ष, गुजरात कृषि उद्योग निगम लिमिटेड – 2010 से 2012
• अध्यक्ष, गुजरात राज्य भारतीय खाद्य निगम की परामर्शदात्री समिति – 2014 से 2016
• संसद सदस्य, राज्य सभा, 2012 के बाद से

संसदीय समितियों में सदस्य के रूप में कार्य करना
• पेट्रोलिय़म और प्राकृतिक गैस संबंधी स्थायी समिति
• रसायन और उर्वरक संबंधी स्थायी समिति
• उद्योग संबंधी स्थायी समिति
• पर्यावरण, वन और मौसम परिवर्तन संबंधी परामर्शदात्री समिति
• वस्त्र संबंधी परामर्शदात्री समिति
• रियल एस्टेट विधेयक – 2015 संबंधी प्रवर समिति

राजनीति संबंधी संक्षिप्त विवरण

• वर्तमान में सड़क परिवहन और राजमार्ग, पोत परिवहन और रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री
• महासचिव, गुजरात भाजपा
• सचिव, गुजरात भाजपा
• सदस्य, गुजरात राज्य कार्यकारिणी समिति, भारतीय जनता पार्टी
• पलिताना तालुका अध्यक्ष, भारतीय जनता पार्टी
• सदस्य, पलिताना भारतीय जनता युवा मोर्चा
• सदस्य, राज्य कार्यकारिणी समिति, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, गुजरात
• सदस्य, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद